राजनीति लखनऊ

आरक्षण से छेड़छाड़ करने वाले अधिकारियों पर होगी बड़ी कार्यवाही इस बार नेताओं की नही गल पाएगी दाल

यूपी में पंचायत चुनाव में जिले में कुछ पदों के लिये आरक्षण तय किया जा रहा है। गाइड लाइन के अनुसार ही सीटों को आरक्षित किया जा रहा है। इसको लेकर सेटिंग करने वालों की लाइन ब्लाकों पर लगना शुरू हो गयी। इस बार सेटिंग के जगह नियमों से काम करना होगा। शासन ने इस बार दोहरा काम किया। पहली फाइल का डाटा अपने पास सुरक्षित कर लिया। आरक्षण में नेता जी की सिफारिश पर गड़बड़ी की तो फंसना तय है। फंसे तो निलंबन तय, इस बात के आदेश पंचायती राज विभाग के अधिकारियों को दिये जा चुके हैं।

बदायूं की 1,037 ग्राम पंचायतों में इस बार चुनाव कराया जायेगा। पंचायत चुनाव के लिये प्रशासन रफ्तार से प्रक्रिया को पूरा करने में लगा है। प्रशिक्षण के बाद आरक्षण का काम शुरू किया गया है इसके बाद आरक्षण की अंतिम सूची प्रकाशित की जायेगी। नेताओं की इच्छा है संबधित गांव में संबंधित कार्यकर्ता के हिसाब पर ही आरक्षण आये। इन बातों में ब्लाक के अफसर आ गये तो निलंबन तय है। जिला पंचायत राज अधिकारी ने साफ कर दिया शासन के पास भी हर गांव का डाटा है। जिला स्तर पर गड़बड़ी की तो नौकरी खतरे में पड़ जायेगी।

डॉ. सरनजीत सिंह कौर, जिला पंचायत राज अधिकारी का कहना है कि जिला एवं ब्लाक स्तरीय अधिकारियों को आरक्षण को लेकर प्रशिक्षण दे दिया गया है। बीडीओ ने गोपनीय तरीके से आरक्षण बनाना शुरू भी किया है। आरक्षण बनाने वाले अधिकारी इस बात को सावधान रहें लोकल स्तर पर किसी भी गांव का डाटा एवं सीट में गड़बड़ी न करें गांव के जातीय आंकड़े भी न बिगाड़ें। शासन स्तर पर भी ऑनलाइन हर गांव का डाटा फीड़ है, ऐसा करने वालों पर बड़ी कार्रवाई हो सकती है।

Related posts

गोरखपुर नगर निगम कार्यकारिणी के 6 सदस्य निर्विरोध निर्वाचित

Surendra Rawat

स्मृति ईरानी कल से अमेठी की हो जाएंगी निवासिनी जाने कैसे

Surendra Rawat

गायन एवं नृत्य प्रस्तुत करने वालो को वृद्धाश्रम के बुज़ुर्गो द्वारा प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया

Surendra Rawat

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More