उत्तर प्रदेश

महिला सशक्तिकरण की नयी परिभाषा गढे़ हुनरमंद बने,आत्मनिर्भर बने-माधुरी साहू

वसंतोत्सव।
यानि की मै सरस्वती स्वरूप हूँ !
अपने जीवन का संगीत वाद्य अपने हाथ मे लेकर
हर मुश्किल परिस्थिति का सामना और अपने विवेक बुद्धि से अपने जीवन का फैसला खुद करना ही सही मायने मे बसंतोत्सव है!


विवेक पूर्ण निर्णय लेकर समाधान करने की क्षमता को विकसित कर सत्यमार्ग मे चलते चले जाना चाहे कोई साथ चले न चले


अपना भाग्यविधाता स्वयं बनना है!अपना सम्बल भी स्वँय बने , दृढ़ इच्छाशक्ति ,सतत प्रयास, ईमानदारी और लगन से अपने मुकाम खुद गढे़ और शून्य से शिखर तक पहुंचे महिला सशक्तिकरण की नयी परिभाषा गढे़ हुनरमंद बने, आत्मनिर्भर बने,

Related posts

नौशाद संगीत डेवलपमेंट सोसायटी की हास्य नाट्य प्रस्तुति‘खुदा खैर करे

Surendra Rawat

वंदेमातरम का विश्वरिकार्ड ! स्कूली बच्चों ने दिखाए जौहर

Surendra Rawat

शौर्य और पराक्रम की प्रतिमूर्ति थे नवनीत

Surendra Rawat

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More