Thursday, August 18, 2022
Google search engine
Homeउत्तर प्रदेशकुशीनगर:अंतरराज्यीय साइबर ठग गिरोह का पर्दाफाश

कुशीनगर:अंतरराज्यीय साइबर ठग गिरोह का पर्दाफाश

- Advertisement -
- Advertisement -

 कुशीनगर पुलिस ने गरीब व भोलेभाले लोगों को लक्ष्य बनाकर उनके नाम से बैंक एकाउन्ट खुलवा व फर्जी सिम से लिंक कराकर खाता बेचने वाले अन्तर्राज्यीय साइबर ठग गिरोह का पर्दाफाश किया है।

 तीन ठगों को गिरफ्तार करते हुए पुलिस ने एक लाख नकद, 45 सिम, 10 एटीएम कार्ड व 24 आधार कार्ड बरामद किया है। एसपी ने पुलिस टीम को 25 हजार नकद इनाम दिया है।

पुलिस अधीक्षक धवल जायसवाल के निर्देशन में पुलिस को यह कामयाबी अपर पुलिस अधीक्षक रितेश कुमार सिंह व क्षेत्राधिकारी खड्डा संदीप वर्मा के नेतृत्व में मिली। एसपी ने इसकी जानकारी सोमवार को पत्रकारों से साझा की । बताया कि जनपद में साइबर सेल कुशीनगर थाना नेबुआ नौरंगिया की संयुक्त पुलिस टीम ने थाना नेबुआ नौरंगिया पर पंजीकृत एक अपराध के सिलसिले में अभियुक्त राज कुमार भारती पुत्र अक्षयवर भारती सा0 चिलगोड़ा कृपापट्टी थाना जटहाबाजार, राजेश साहनी पुत्र जयंत्री साहनी रामपुर नितिशनगर थाना लौकरिया जनपद पश्चिमी चंपारण (बिहार),रामनाथ पुत्र भोला सा0 बहेलिया (भुजौली बुजुर्ग) थाना खड्डा जनपद कुशीनगर को गिरफ्तार किया कर उक्त बरामदगी की है।

 एसपी ने बताया कि अभियुक्त फर्जी खाते खुलवाकर साइबर हैकरों को बेच देते थे। अभियुक्तगण ने स्वीकार किया कि गरीब एवं भोलेभाले लोगों को पैसे का लालच देकर भिन्न-भिन्न बैकों में एकाउंट खुलवाते है। उस खाते में विजय कुशवाहा एंव राज कुमार द्वारा उपलब्ध कराये गये फर्जी सिम को लिंक करवा कर खाते का पासबुक व एटीएम कार्ड अपने पास रख लेते थे। तथा खातों को साइबर अपराधियों व हैकरों को आठ हजार में बेच देते हैं। खोले गये खाते को तत्काल एक्टिवेट करने के लिए साइबर अपराधियों द्वारा 4000 खाते में जमा करने के लिए उपलब्ध कराया जाता है। जिसके उपरान्त तुरन्त बैंक शाखा से खाते का नेटबैंकिंग यूजरनेम व पासवर्ड प्राप्त हो जाता है।

जिसकी सहायत से SBI YONO ठगी के इस कार्य में साइबर अपराधी व हैकर अवैध रुप से आनलाइन लाखों रुपये ट्रांसफर करके निकाल लिया जाता है। जब खाते में अत्यधिक लेन देन हो जाता है और बैंक से अधिक लेन-देन का नोटिस आ जाती है तो उस खाते में पैसा ट्रांसफर करना बन्द कर देते है और पुनः दूसरे लोगों को लालच का झांसा देकर उनका खाता खोलवाकर उसे पैसा ट्रांसफर करके निकालते हैं। बरामद मोबाईल डेटा के अनुसार कुल 2295 फाइलें प्राप्त हुई जिसमें बैंक खाते, नेट बैंकिंग का यूजर नेम व पासवर्ड, आधार कार्ड, एटीएम कार्ड व आनलाईन बेंकिंग एप्लिकेशन शामिल है।

एसपी ने बड़ी कामयाबी का श्रेय प्रभारी निरीक्षक मनोज कुमार पन्त साइबर सेल, प्रभारी निरीक्षक दिनेश कुमार तिवारी थाना नेबुआ नौरंगिया व सहयोगियों की टीम को दिया है।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES

Most Popular