No menu items!
Thursday, August 18, 2022
No menu items!
Google search engine
No menu items!
Homeदेशआस्था और विश्वास की अटूट कहानी है ''हमरे भोलेनाथ''......

आस्था और विश्वास की अटूट कहानी है ”हमरे भोलेनाथ”……

- Advertisement -
- Advertisement -

आस्था और विश्वास की अटूट कहानी है ”हमरे भोलेनाथ”……

सुरेन्द्र प्रसाद रावत, 

हाल ही रिलिज़ हुई प्रसिद्ध भजन व लोकगायक अमित अंजन का गाया हुआ शिव भजन हमरे भोलेनाथ खासा लोकप्रिय हो रहा है, एक भोले भक्त की कहानी जो भोले नाथ का अनन्य भक्त है भोला, अपने छोटे भाई को ऑटो रिक्शा चला कर बाहर पढ़ाता है, उसका भाई जब बनारस आता है तो उसका बेसब्री से इंतजार करता है ,छोटे भाई को परीक्षा का टेंशन है, भोला को भोलेनाथ पर भरोसा है छोटे को अपने कर्म पर, आस्था और कर्म का मिश्रण ये भजन का फिल्माकंन बड़ा ही आकर्षक है, दर्शको को लगातार बांधे रखती है, भोला का भोलापन व छोटे के चिढ़ने की घटनाओं ने भजन के स्क्रिप्ट को मजबूत बनाता है, सोनचिरईया प्रोडक्शन और जी-वेव स्टूडियो की यह प्रस्तुति श्रावण मास में भक्तों को ख़ूब भा रही है, अरुण पंडित की सरल लेखनी लोगो के जुबान पर सरलता से चढ़ जा रही, भोलेनाथ के भक्त के रूप में विमल ने अच्छा निभाया है, छोटे भाई का किरदार भी काबिले तारीफ है ,उ प्र संगीत नाटक अकादमी सदस्य अमित अंजन नित नए प्रयोग के लिए संगीत जगत में जाने जाते है , भजन में अवधी, भोजपुरी,ब्रज, उर्दू व हिंदी भाषा का प्रयोग इस भजन को अनूठा बनाता है साथ ही साथ कबीर दास के दोहे में प्रयोग भाषा शैली की याद भी दिलाता है ,नवीन शर्मा के फोटोग्राफी ने एलबम को शानदार बनाया है ,भजन में मिर्जापुर, सोनभद्र,वाराणसी,और मानसरोवर मंदिर जो कि गोरखनाथ मंदिर में स्थित है वहाँ के बेहतरीन लोकेशन को कैद किया गया है जिससे ये भजन सुनने और देखने लायक़ बन पड़ा है ,हमरे भोलेनाथ भोलेनाथ को अपना बनाने व शिव को आत्मसात करने की कहानी है

- Advertisement -
RELATED ARTICLES

Most Popular