Saturday, May 28, 2022
Google search engine
Homeलाइफस्टाइलदेश की सीमा और सीमा क्षेत्र में रहने वाले लोग यदि सुरक्षित...

देश की सीमा और सीमा क्षेत्र में रहने वाले लोग यदि सुरक्षित हैं तो देश निश्चित ही सुरक्षित है

- Advertisement -
- Advertisement -

देश की सीमा और सीमा क्षेत्र में रहने वाले लोग यदि सुरक्षित हैं तो देश निश्चित ही सुरक्षित है !

चन्द्रेश शास्त्री, सामाजिक कार्यकर्ता

देश के सीमा क्षेत्र में रहने वाले लोगों की है विशेष जिम्मेवारी है हम अपने परिजनों के साथ-साथ अपने समाज के बच्चों को ध्यान दें हम कहीं किसी अपराधी क्षेत्र से संबद्थ तो नहीं हो रहे ! भारत नेपाल के इस सीमा क्षेत्र में थोड़े थोड़े पैसों की लालच में होनहार बच्चों को भी अपराध की दिशा में धकेल देते हैं बाल श्रम तो एक सामान्य बात है ! कहीं-कहीं अनायास ही सुनने में आ रहा है आज के परिवेश में भी कम उम्र की बच्चियों की शादी किसी अन्य प्रांत से और नेपाल से बड़े उम्र के लोगों के साथ पैसे के लालच में विवाह कराया जा रहा है जो पूरी तरह आपराधिक कृत्य है इसके लिए पूरे समाज को जागरूक होने की जरूरत है ! खासकर ऐसे बच्चे जिनके माता-पिता नहीं है या पिता के मृत्यु के बाद मां गरीब अवस्था में है उन्हें लालच देकर मजदूरी के दिशा में धकेला जा रहा है तूने चाहिए राष्ट्र के एक मजबूत बनने वाले नागरिक को मजबूर बनाने का पाप किया जा रहा है जिसे रोकने के लिए हम सभी को सामूहिक प्रयास करना चाहिए ! उक्त बातें सामाजिक कार्यकर्ता चंद्रेश शास्त्री ने बैठवलिया के सरस्वती ज्ञान मंदिर हाई स्कूल में” सीमा क्षेत्र और होने वाले बाल अपराध ” विषयक संगोष्ठी में कहा ! वही चाइल्डलाइन निचलौल के सक्रिय कार्यकर्ता पिंटू कुमार ने सभी को संबोधित करते हुए चाइल्डलाइन के विषय में बताया _ उन्होंने कहा कि हर एक बचपन का अधिकार है उसे अच्छा जीवन मिले अच्छी शिक्षा मिले अच्छा रहन-सहन मिले ! और यह देने की जिम्मेदारी परिवार समाज के साथ सरकार की भी है परंतु यह बात बच्चों को भी समझनी पड़ेगी जो उन्हें पढ़ लिखकर देश की महानता के लिए एक योग्य नागरिक बनना है ! कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए विद्यालय के प्रबंधक जितेंद्र पाल सिंह जी ने कहा _मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है और उसे हर हाल में यह प्रयास करना चाहिए कि हमारा समाज अपराध मुक्त समाज हो ! अपराध मुक्त समाज ही एक स्वस्थ राष्ट्र की प्रबल रीढ की हड्डी है ! हम सभी को मिलकर के बाल विवाह बाल श्रम जैसे कुरीतियों का बहिष्कार करना चाहिए ! हालांकि अब समाज में कमी आई है फिर भी कहीं कहीं चोरी छुपे लोग लालच में ऐसा कर रहे हैं और इसका मूल कारण अशिक्षा है ! अशिक्षा जन्य अपराधों को मिटाने के लिए भी हम सभी को एकजुट होकर प्रयास करना चाहिए ! वहां उपस्थित बच्चों ने यह संकल्प लिया कि हम बालश्रम और बाल विवाह से मुक्त समाज की स्थापना करने में समाज को जागरूक करने हेतु भरपूर प्रयास करेंगे !

- Advertisement -
RELATED ARTICLES

Most Popular