राष्ट्रीय सेवा योजना के दूसरे दिन एन एस एस के सेविकाओ को भोजन के संरक्षण के बारे दी गयी जानकारी

राष्ट्रीय सेवा योजना के दूसरे दिन एन एस एस के सेविकाओ को भोजन के संरक्षण के बारे मे दी गयी जानकारी

आजमगढ़ / जे पी आर गर्ल्स डिग्री कालेज सेठवल रानी की सराय मे चल रहे सात दिवसीय राष्ट्रीय सेवा योजना के दूसरे दिन एन एस एस के सेविकाओ को भोजन के संरक्षण के बारे मे कालेज मे मुख्य अतिथि भारतीय स्टेट बैंक रानी की सराय के शाखा प्रबन्धक जन्मेजय कुमार यादव ने बताया की ऐसे करें बचे हुए भोजन का सदुपयोग बचा हुआ भोजन कभी दोबारा खाने का मन न हो तो उसे कुछ और रूप देकर आकर्षक और स्वादिष्ठ बनाया जा सकता है. जे पी आर गर्ल्स डिग्री कालेज सेठवल रानी की सराय मे मुख्य अतिथि भारतीय स्टेट बैंक रानी की सराय के शाखा प्रबन्धक जन्मेजय कुमार यादव ने बताया की

सब्जियाँ-   सूखी सब्ज़ियाँ जैसे गोभी पत्ता गोभी गाजर मटर या पालक वगैरह को कई तरह से प्रयोग कर सकते है.जो भी सब्ज़ी बची हो उसे मसल कर आटे मे गूँध लें इसके पराँठे बहुत स्वादिठ लगेंगे. थोड़ा सा बेसन सूखी कढ़ाई मे भून लें.सब सब्ज़ियाँ मसल कर बेसन मे मिला ले.इसको पराँठे मे भर के पराँठे बना ले. इसी के कोफ्ते भी बन सकते हैं.
सब्जियाँ और बेसन मिलालें.थोड़े आलू उबाल कर मसल लें.थोड़ी सूखी हुई या ताज़ी ब्रेड भिगो कर निचोड़ ले।बेसन न मिलाना हो तो सूजी भूनकर मिला सकते हैं.सभी चीज़े मिलाकर कटलेट बन सकते हैं.सब्ज़ियों को पके हुए चावल मे मिलाकर ज़ीरे तड़का लगाकर थोड़ा गरम मसाला डालकर नमकीन स्वदिष्ठ चवल बना सकते हैं.

दालें-  बची हुई किसी भी दाल मे बरीक कटी हुई प्याज़ हरा धनियाँ मिलायें इसे आटे मे गूंध कर पराँठे बनालें.दाल को बेसन के साथ धोल कर प्याज़ की पकौड़ियाँ बना ले. दाल को पीस कर आटे मे गूंध कर पूरियाँ भी बन सकती हैं.दाल ज़्यादा होतो दोबारा तड़का लगाकर भी ताज़ी जैसी हो जाती है.

रोटियाँ- थोड़ा सा बेसन का घोल बनायें उसमे प्याज़ हरी मिर्च हरा धनियाँ काट कर मिलालें रोटी के एक तफ फैला कर पराँठे की तरह सेकें. चार टुकड़े छुरी से करके चटनी या अचार के साथ परोसें. रोटी के छोटे छोटे टुकड़े करके प्याज काटके, बेसन के घोल मे डाकर पकौडियाँ तल सकते है.

चावल- यदि चावल बहुत थोडे से बचे हों तो ताज़े चावल बनाकर बचे हुए चावल की ऊपरी सतह लगाकर ढक दें.ताज़े चावल की भाप से बचे हुए चावल भी एकदम ताज़ा जैसे हो जायेंगे.
यदि चावल ज़्यादा बचे हों तो उनमे उबलता हुआ पानी डालकर 2 मिनट छोड़ दें फिर पानी छान कर निकाल दें अगर चावल गीले से लगें तो एक दो मिनट हल्की आंच पर रहने दें।बचे हुए चावल मे किसी भी प्रकार का तड़का (छौंक) लगा सकते हैं,जैसे प्याज़ टमाटर,ज़ीरा गर्म मसाला या सरसों के दाने का। ज़ीरे के छौंक के साथ बची हुई सब्ज़ियाँ और सरसौं के छौंक के साथ,नीबू का रस भी डाला जा सकता ।

विशिष्ट अतिथि भारतीय स्टेट बैंक रानी की सराय के फील्ड अफसर शंकर राम ने बताया की संरक्षण देने वाले

भोजन में प्रोटीन, विटामिन और खनिज अधिक पाये जाते हैं उसे संरक्षण देने वाला भोजन कहते हैं। दूध और दूध के उत्पाद, अंडे, कलेजी, हरी पत्तेदार सब्जियाँ
भारत में अधिकांश लोग अधिक अनाज खाते हैं और उनके भोजन में दूसरे शक्तिवर्द्धक तत्वों की कमी होती है। मोटे तौर पर भोजन में बदलाव लाकर उसमें सुधार किया जा सकता है, अर्थात् जहां कहीं भोजन में अन्न की अधिकता हो, अन्न की मात्रा कम की जाए और उसके बजाए भोजन में शरीर की प्रोटीन, विटामिन और खनिजों की आवश्यकता पूरी करने वाले तत्व बढ़ाए जाएं। जहां कहीं इस प्रकार के खाद्य पदार्थ उपलब्ध हों उनसे और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के प्रयोग से, परिरक्षित भोजन की सहायता से, पौष्टिक आहार में सुधार लाया जा सकता है। भोजन तैयार करने की सुधरी विधियों का प्रयोग करके भोजन पकाने के दौरान पोषक तत्वों को होने वाली हानि को रोका जा सकता है। भोजन को अधिक उबालने या तलने से बहुत से पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं। इसलिए इस बात का पूरा ध्यान रखना चाहिए कि खाना सही तरीके से पकाया जाए। जे पी आर गर्ल्स डिग्री कालेज के प्रबन्धक शैलेश कुमार राय ने आए हुए सभी आगन्तुकों का आभार व्यक्त किया एवं जे पी आर गर्ल्स डिग्री कालेज सेठवल रानी की सराय के समस्त अध्यापक गण उपस्थित थे