Thursday, August 18, 2022
Google search engine
HomeUncategorizedकलम मेरा आजाद है मैं स्वतंत्र हूं अपने विचारों...

कलम मेरा आजाद है मैं स्वतंत्र हूं अपने विचारों से

- Advertisement -
- Advertisement -

पत्रकार फतेह खान 

सोता हूं यह मैं अक्सर

 मेरी पहचान क्या है?

 सोचता मेरे दिल में बसी

 मेरी रूह मेरी जान क्या है||

 गर्दिशों में मैं तो कलम संग उड़ना चाहता हूं

 काट देते पंख मेरे अपने बताओ मेरा मान क्या है||

 अपनी जिम्मेदारियों को भी खूब से निभाता हूं

फिर भी कहते हद ना उलाँघना मेरे जज्बात क्या है||

 मन के भीतर एहसास में लिखती जाता हूं

 मेरे अपने ही ना समझे मुझे कि मेरे एहसास क्या है||

- Advertisement -
RELATED ARTICLES

Most Popular