एसपी आजमगढ़ ने गठित की अलग महिला क्यूआरटी अपराध पर नियंत्रण और अपराधियों पर लगाम कसने में मिलेगी मदद

एसपी आजमगढ़ ने गठित की अलग महिला क्यूआरटी अपराध पर नियंत्रण और अपराधियों पर लगाम कसने में मिलेगी मदद

एसपी आजमगढ़ ने गठित की अलग महिला क्यूआरटी
अपराध पर नियंत्रण और अपराधियों पर लगाम कसने में मिलेगी मदद

आजमगढ़. कानून व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने व अपराधियों पर लगाम कसने के लिए आजमगढ़ पुलिस ने बड़ी पहल की है। अब जिले के इंस्पेक्टर और महिला कास्टेबल बाडी कैमरे से लैस होगी और हर तरह के अपराध पर नजर रखने के साथ ही त्वरित कार्रवाई भी कर सकेंगे। इसका सबसे बड़ा फायदा होगा कि लोग पुलिस कार्रवाई पर सवाल भी खड़ा नहीं कर सकेंगे। कारण कि सारी कार्रवारी कैमरे की नजर में होगी। यहीं नहीं एसपी ने अलग से महिला क्यूआरटी का गठन भी किया है।
पुलिस का मानना है कि यह कानून व्यवस्था में सुधार की दिशा में महत्वपूर्ण कदम साबित होगा।
पुलिस अधीक्षक की देखरेख में गुरूवार को नई गठित क्यूआरटी सड़क पर रूट मार्च कर रिहर्सल भी किया। इस दौरान एसपी द्वारा उन्हें बताया गया कि अपराध नियंत्रण के लिए टीम को क्या कदम उठाने है और कैमरे का इस्तेमाल कैसे करना होगा। मार्च के दौरान क्यूआरटी लोगों को धारा-144 के बारे में भी अवगत काराया।
बता दें कि अध्योध्या विवाद में फैसले को लेकर पूरे देश में एलर्ट है। आजमगढ़ जिले को अति संवेदनशील की श्रेणी में रखा गया है। एडीजी से लेकर आईजी तक की इस जिले पर नजर है। अराजकतत्व अपने मंसूबे में कामियाब न हों और अपराध को पूरी तरह काबू किया जा सके इसलिए यह कवायद शुरू की गयी है। पुलिस अधीक्षक प्रो. त्रिवेणी सिंह ने बताया कि कानून व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने तथा अपराध पर नियंत्रण के लिए महिला क्यूआरटी का गठन किया गया है। आम तौर पर देखा गया है कि जब कोई विवाद होता है तो अराजकतत्व महिलाओं को आगे कर माहौल को खराब करते है। अब क्यूआटी ऐसे मामलों को आसानी से रोक सकेगी। साथ ही इनके पास साक्ष्य भी होगा जिससे कार्रवााई में मदद मिलेगी।

Spread Your Love