कांशीराम कालोनी से बेघर पात्रों को मिलेगा आवास

कांशीराम कालोनी से बेघर पात्रों को मिलेगा आवास

कांशीराम कालोनी से बेघर पात्रों को मिलेगा आवास

आजमगढ़ कांशीराम शहरी गरीब आवास योजना के अंतर्गत शहर के तीन स्थानों पर बनी कालोनियों के आवासों में अवैध रूप से रह रहे लोगों को बेदखल करने की प्रशासनिक कार्रवाई चल रही है। वहीं निकाले गए लोगों में यदि कोई पात्र होगा तो उसकी औपचारिकता पूरी कर आवास आवंटित किया जाएगा। इसके साथ ही डीएवी कॉलेज के समीप कांशीराम शहरी आवास कालोनी की एक-एक गतिविधि पर प्रशासन की पैनी नजर है। जल्द ही प्रशासन व पुलिस की संयुक्त टीम प्रभावी कार्रवाई करने की तैयारी में जुट गई है।
शहर के डीएवी, चकगोरया और जाफरपुर में योजना के तहत आवास बने हैं। आवास आवंटन प्रक्रिया पर शुरुआत से ही सवालिया निशान उठाए जा रहे थे। खास बात यह है कि कई ऐसे पात्र हैं जिन्हें आवास आवंटित हुए हैं लेकिन वे अपने कब्जे को लेकर कई वर्षो से भटक रहे हैं। शिकायत पर हर साल कांशीराम आवास में अवैध रूप से रह रहे लोगों को चिह्नित किया जाता रहा और उन्हें नोटिस दी जाती रही लेकिन पहुंच और विभागीय मिलीभगत से मामला ठंडे बस्ते में चला जाता था।
इस बार जिलाधिकारी नागेंद्र प्रसाद सिंह ने इसे गंभीरता से लिया और अपर जिलाधिकारी प्रशासन नरेंद्र सिंह के नेतृत्व में एसडीएम सदर प्रशांत कुमार नायक, सीओ सिटी इलामारन जी. और पीओ डूडा अरविद पांडेय की टीम गठित की। इस दौरान संबंधित कालोनियों में अवैध कब्जेदारों को चिह्नित कर सूची बनी और आवासों को कब्जा मुक्त करने की कार्रवाई शुरू हो गई। अभी चकगोरया के कुल 204 आवासों में 87 आवास कब्जा मुक्त कराए गए। जिलाधिकारी ने पीओ डूडा को निर्देशित किया है कि अवैध रूप से रह रहे जिन लोगों को निकाला गया है। अगर वे पात्र हैं और पूर्व में आवेदन कर चुके हैं तो इसकी जांच कर उन्हें आवास आवंटित किया जाए। जिन लोगों ने आवेदन नहीं भी किया है और पात्र हैं तो उनसे आवेदन लेकर आवास आवंटन की प्रक्रिया एक सप्ताह में पूरी की जाएगी। यह भी निर्देशित किया है कि जब तक ऐसे लोगों का आवास नहीं मिल जाता तब तक उनके भोजन की व्यवस्था हर हाल में सुनिश्चित की जाए।

Spread Your Love