बालू माफियाओं के रक्षक बने कोतवाली ठूठीबारी के कुछ पुलिसकर्मी

बालू माफियाओं के रक्षक बने कोतवाली ठूठीबारी के कुछ पुलिसकर्मी

अवैध बालू का काला कारोबार प्रशासन की मिलीभगत से फल फूल रहा बालू का धंधा

महाराजगंज ।जनपद के इंडो नेपाल सीमा पर स्थित कोतवाली ठूठीबारी क्षेत्र के चंदन नदी से इन दिनों अवैध खनन माफियाओं का बोलबाला है ।
सूत्रों के अनुसार कुछ बालू गिट्टी प्लांट के प्रोपराइटर और कुछ पुलिसकर्मियों की मिलीभगत से चंदन नदी के बसंतपुर ,बोदना, बकुलडीहा के सामने अवैध खनन जोरों पर है ।
बताया जाता है कि प्रतिदिन रात्रि के 10:00 बजे आधा दर्जन से अधिक ट्रैक्टर ट्राली से बालू निकालकर गिट्टी बालू प्लांट के मालिकों को पहुंचाया जाता है जिसके एवज में कुछ पुलिसकर्मी मुख्य मार्ग पर गाड़ी खड़ा करके लाइन देते हैं ऐसे में नदी के किनारे स्थित खेत के मालिक परेशान है कि यदि बाढ़ आई तो पूरी तरह से उनका खेत नदी में विलीन हो जाएगा। एक तरफ योगी सरकार अधिकारियों पर अंकुश कसने में लगी हुई है तो वहीं दूसरी तरफ पुलिसकर्मी नया रास्ता ढूंढने में कामयाब हो रहे है । यदि इसी तरह से अवैध खनन चलता रहा तो बाढ़ आने पर तमाम किसान बर्बाद हो जाएंगे। बताया जाता है कि अवैध बालू का कारोबार करने वाले प्रति ट्राली ₹1000 पुलिसकर्मियों को देते हैं और पुलिस बालू तस्करों की हिफाजत करते हैं जो क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है।

Spread Your Love